Bhabhi Ko Chudne Ki Azadi Mil Gai Akele Hone Par

Bhabhi Ko Chudne Ki Azadi Mil Gai Akele Hone Par

मेरा नाम अनुज है। में लुधियाना से हूँ और मेरी उम्र 26 साल है, मेरी हाईट 6 फुट है, मेरे लंड का साईज 7 इंच लंबा है और मेरा अपना बिजनेस है। यह स्टोरी मेरी पड़ोस वाली भाभी की है, जिनका नाम निधि है, उनकी उम्र 32 साल है, रंग गोरा है, फिगर एवरेज है और उनके बूब्स बहुत बड़े है, उसकी गांड भी मोटी है मेरा दिल करता है कि बस अभी ही फाड़ दूँ। भाभी के घर में उनकी सास है, जो हमेशा बीमार रहती है, भाभी बहुत ब्यूटिफुल है। अब टाईम वेस्ट ना करते हुए में सीधा स्टोरी पर आता हूँ। यह बात तब की है जब हम यहाँ शिफ्ट हुए थे, हम यहाँ नये थे और हमारी किसी से जान पहचान नहीं थी। फिर कुछ दिनों के बाद हमारी पड़ोस वाली भाभी ने हमारे साथ पहचान बनाई, तब से हम एक दूसरे को जानते है। में जब उनसे फर्स्ट टाईम मिला था तब से मैंने उसे चोदने का मन बना लिया था। मेरी फेमिली में में और मेरी माँ और मेरी बहन है। Bhabhi Ko Chudne Ki Azadi Mil Gai Akele Hone Par.

मैंने अपनी भाभी पर बहुत ट्राई किया मगर बात नहीं बनी, तभी एक दिन मेरे वाट्सअप पर मैसेज आया तो मैंने रिप्लाई किया, तुम कौन हो? लेकिन उन्होंने यह नहीं बताया कि वो कौन है? वो बस फ्रेंड्स की तरह चैट करने लगे। अब चैट करते-करते मेरी उनसे फ्रेंडशिप हुई, फिर उन्होंने बताया कि में तुम्हारी भाभी हूँ। अब में बहुत खुश हुआ और फिर उन्होंने यह बात सीक्रेट रखने को कहा, तो मैंने उन्हें ओके कहा। भाभी पहले बहुत दुखी रहती थी, तो मैंने उनसे पूछा, तो उन्होंने बताया कि उनके पति दो साल से नहीं आए और वो अकेली मायूस रहती है। फिर मैंने उन्हें तसल्ली दी और में हूँ ना बोला, तो वो खुश हो गई। फिर एक दिन मैंने उनसे मिलने को कहा, क्योंकि मेरी माँ और बहन शादी में जाने वाले थे और भाभी का पति दुबई में था।           “Bhabhi Ko Chudne Ki Azadi”

चुदाई की गरम देसी कहानी : मेरी गरम चूत को पेल कर शांत किया भैया के दोस्त ने

फिर मैंने भाभी को आने को बोला, तो वो तैयार हो गई और जब मेरी माँ और बहन शादी में चली गई, तो वो मेरे घर पर आ गई। फिर मैंने उन्हें हग किया और लिप किस करते-करते उनकी गांड पर अपना हाथ फैरने लगा, क्या बताऊँ क्या मज़ा आ रहा था? फिर मैंने झट से भाभी की सलवार का नाड़ा खोल दिया और उन्हें उठाकर बेडरूम में ले गया। फिर भाभी ने कहा कि तुम भी अपने कपड़े उतारो तो मैंने झट से अपने कपड़े उतारे और अपना लंड बाहर निकालकर भाभी के हाथों में दे दिया। अब भाभी बहुत खुश थी, फिर मैंने उनका टॉप भी उतारा और अपना लंड उनके लिप्स पर रगड़ने लगा। फिर भाभी ने मेरा लंड अपने मुँह में लिया और चूसने लगी। अब मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। अब में भाभी के निप्पल से खेल रहा था।

फिर मैंने अपना लंड उनके मुँह से बाहर निकाला और उनके बूब्स पीने लगा, उनके बूब्स इतने बड़े-बड़े थे कि मेरे हाथ में भी नहीं आ रहे थे। फिर में 10 मिनट तक उनके बूब्स चूसता रहा और उसके बाद मैंने भाभी की नाभि को चाटा। अब मुझे बहुत मज़ा आ गया था। अब भाभी पूरी गर्म थी और सिसकियां ले रही थी। फिर उसके बाद मैंने उनकी चूत को चाटा और उनकी चूत एकदम साफ थी, शायद कल ही शेव की होगी। अब उनकी चूत गीली हो गई थी, फिर मैंने अपनी जीभ डालकर अच्छे से उसका पानी पिया। अब भाभी आअहह मज़ा आ रहा है बोल रही थी। फिर मैंने उनकी चूत को चाटने के बाद भाभी को पलटने को बोला, तो वो पलट गई। अब में तो उनकी बड़ी गांड देखता ही रह गया, फिर वो मेरी तरफ देखकर बोली कि तुम्हें मेरी गांड अच्छी लगी। फिर मैंने बोला कि भाभी आपकी गांड देखकर तो में पागल हो जाता हूँ। तो वो बोली कि तुम्हें इसका छेद दिखाऊँ तो फिर भाभी ने अपने हाथों से अपनी गांड खोली तो उनकी गांड का छेद बहुत छोटा सा था।   “Bhabhi Ko Chudne Ki Azadi”

मस्तराम की गन्दी चुदाई की कहानी : भाभी का ब्लाउज खुल गया चुदने को

फिर में उसे किस करने लगा और अपनी जीभ उनकी गांड में अंदर डालने लगा। फिर भाभी ने अपने हाथ हटा लिए और मेरा मुँह उनकी गांड में ही रह गया। फिर भाभी बोली कि प्लीज और चाट मुझे बहुत मज़ा आ रहा है, प्लीज और चाट और अपनी चूत में उंगली डाल दी। अब भाभी आअहह की आवाजे निकाल रही थी, अब मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। फिर भाभी ने मुझे लेटने को कहा तो में लेट गया। अब भाभी मेरे मुँह पर अपनी गांड रखकर चाटने को बोली। तो में अपनी जीभ उनकी गांड में अंदर डालकर चाटता गया, वाह क्या मज़ा आ रहा था? फिर उन्होंने मुझे अपनी चूत चाटने को कहा तो में उनकी चूत चाटने लगा। अब भाभी मेरे लंड के साथ और कभी मेरी गोलियों के साथ खेल रही थी। फिर भाभी ने मुझे अपनी नाभि को भी चाटने को कहा तो फिर मैंने अपनी जीभ उनकी नाभि में डालकर उसे भी चाटा। अब मुझे बहुत मज़ा आ रहा था और उनकी नाभि काफ़ी गहरी थी।                      “Bhabhi Ko Chudne Ki Azadi”

फिर तभी भाभी पलटी और मेरा लंड पकड़कर अपनी चूत में डालने को बोली तो मैंने जैसे ही अपना लंड उनकी चूत में डाला, तो वो जोर से चीखी। शायद वो काफ़ी दिनों के बाद सेक्स कर रही थी, इसलिए मैंने अपना लंड एक झटके में अंदर डाला और उन्हें चोदने लगा और उनको किस करता गया। फिर भाभी ने अपनी जीभ निकाली और में उसे चाटने लगा और चोदता गया। अब भाभी आआहह मारो, मेरी चूत फाड़ दो ऐसी आवाज़ें निकालने लगी थी। फिर मैंने जोश में आकर अपनी स्पीड और तेज की और उन्हें चोदता गया। तभी 10 मिनट के बाद भाभी झड़ गई और मेरी पीठ पर अपने नाख़ून चुभा दिए और मुझसे लिपट गई। फिर में रुका और भाभी से बोला कि भाभी मेरा पानी नहीं निकला है, तो वो बोली कि मुझे घोड़ी बना और चोद डाल। तो में उन्हें घोड़ी बनाकर चोदने लगा, अब में उनकी गांड में भी उंगली करने लगा था, भाभी की गांड सील पैक थी। फिर उन्होंने कहा कि अभी आगे ही चोद गांड में बहुत दर्द होता है।

अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरीज :  अनुराधा को मोटे लंड की जरुरत थी

फिर में 10 मिनट तक भाभी को चोदता गया। कभी में उनके बूब्स पकड़ता तो कभी उनकी गांड में उंगली करता, तो कभी उन्हें बहुत सारे किस करता। फिर 15 मिनट के बाद में भी झड़ गया और उनके ऊपर ही लेट गया। फिर थोड़ी देर के भाभी ने मेरा लंड अपने मुँह में लेकर फिर से खड़ा कर दिया। फिर मैंने भाभी को अपनी गांड दिखाने को बोला, लेकिन वो मना करने लगी तो मैंने उन्हें मना लिया। फिर मैंने उन्हें बाथरूम से तेल लाने को बोला, तो वो जब उठकर जा रही थी तब उनके चूतड़ देखकर में अपने आप पर कंट्रोल नहीं कर पाया। फिर जब भाभी वापस आई तब वो मुझे लिप किस करने लगी। फिर मैंने उन्हें घोड़ी बनने को कहा और फिर मैंने उनकी गांड की तेल से मालिश की और अपने लंड पर तेल लगाकर धीरे से धक्का मारा तो वो जोर से चिल्लाई आआहह अनुज में मर जाउंगी प्लीज बाहर निकाल ले।                       “Bhabhi Ko Chudne Ki Azadi”

फिर मैंने उनके बूब्स पकड़े और मसलने लगा। फिर एक झटके में मैंने अपना लंड अंदर किया, तो वो चिल्लाने लगी। फिर में 2 मिनट तक वैसे ही रुका रहा और फिर से धक्के देने लगा, आआहह क्या मज़ा आ रहा था? फिर थोड़ी देर के बाद भाभी को भी मज़ा आने लगा था। फिर मैंने पूछा कि भाभी कैसा लग रहा है? तो वो बोली कि अब मज़ा आ रहा है। फिर 10 मिनट के बाद मैंने उनकी गांड में ही अपना पानी निकाल दिया और ऐसे ही उन पर लेट गया। फिर मैंने उस दिन उन्हें 6 बार चोदा, फिर शाम को वो मुझे खाना खिलाकर अपने घर चली गई। फिर जब भी हमें टाईम मिलता है तो हम चुदाई करते है, फिर मैंने भाभी की बहुत बार गांड भी मारी और बहुत मज़े लूटे। अब जब भी हमें मौका मिलता है तो अब हम ओरल सेक्स भी करते है, अब भाभी बहुत खुश रहती है ।      “Bhabhi Ko Chudne Ki Azadi”

कामुकता हिंदी सेक्स स्टोरी :  गुस्से वाली मामी गरम होकर चुद गई

 ये कहानी Bhabhi Ko Chudne Ki Azadi Mil Gai Akele Hone Par आपको कैसी लगी कमेंट करे……………………

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *