Naye Land Ka Sukh Mila Meri Garam Chut Ko – नए लंड का सुख

Naye Land Ka Sukh Mila Meri Garam Chut Ko

मेरा नाम अनीशा है मैं चंडीगढ़ की रहने वाली हूं, मेरी शादी को अभी 9 महीने ही हुए हैं। जब से मेरी शादी हुई है उसके बाद से तो मैं घर में बोर होने लगी हूं लेकिन मुझे समझ नहीं आता कि मुझे क्या करना चाहिए, उसी दौरान मेरी मुलाकात हमारे पड़ोस में ही रहने वाले मनोज जी से हुई। मनोज जी भी घर में बच्चों को ट्यूशन पढ़ाने का काम करते हैं, जब उनसे मेरी मुलाकात हुई तो उन्होंने मुझे एक ऑफर दिया और कहा कि यदि आप मेरे साथ काम करना चाहती हैं तो आप मेरे साथ काम कर सकती हैं। Naye Land Ka Sukh Mila Meri Garam Chut Ko.

मुझे भी लगा कि यह ठीक रहेगा क्योंकि मेरा भी घर में टाइम पास नहीं हो पाता था और मैं भी कुछ करना चाहती थी इसलिए जब शाम को मेरे पति आए तो मैंने उनसे इस बात का जिक्र किया, उन्होंने मुझे कहा मुझे तो इसमें कोई भी आपत्ति नहीं है लेकिन कल मैं इस बारे में मम्मी और पापा से बात करूंगा यदि वह लोग इजाजत दे देते हैं तो तुम उनके साथ पढ़ाने के लिए चले जाना, मुझे इसमें कोई भी आपत्ति नहीं है। मैंने अपने पति से कहा आप मम्मी से एक बार बात कर लीजिए, मेरा तो बहुत मन है कि मैं बच्चों को ट्यूशन पढ़ाऊँ क्योंकि घर में मैं अकेली हूं और अभी जॉब करना भी मेरे लिए संभव नहीं है इसलिए आप एक बार मम्मी और पापा से अच्छे से बात कर लीजिएगा।

चुदाई की गरम देसी कहानी :  बहन को उत्तेजित कर चोद लिया

वह मुझे कहने लगे हां बाबा मैं उनसे बात कर लूंगा तुम चिंता मत करो। उन्होंने मुझे इतना आश्वासन दिया तो मेरे लिए काफी था। सुबह उन्होंने ऑफिस जाते वक्त अपनी मम्मी से बात कर ली, जब वह मम्मी से बात कर रहे थे तो वह मुझे कहने लगी तुम बच्चों को पढ़ा कर क्या करोगी घर में पैसे की तो कोई दिक्कत नहीं है और हमने जो कुछ भी किया है वह सब तुम्हारा ही तो है। मैंने उन्हें कहा कि आप यह बात तो सही कह रही है लेकिन मैं घर में अकेली बोर हो जाती हूं इसलिए मैं चाहती हूं कि मैं भी ट्यूशन पढ़ाऊँ, उससे मेरा भी खर्चा निकल जाया करेगा और मुझे अच्छा भी लगेगा। उन्होंने मुझे कहा ठीक है जैसा तुम्हें लगता है तुम अपने हिसाब से देख लो। मैंने अपनी सास से पूछा कि आपको कोई दिक्कत तो नहीं है, वह कहने लगे नहीं मुझे कोई दिक्कत नहीं है जैसे ही उन्होंने यह बात कही तो मेरे अंदर से खुशी बाहर निकलने लगी और वह मेरे चेहरे पर साफ दिखाई दे रही थी।                  “Naye Land Ka Sukh”

मेरे पति ने जब मुझे देखा तो वह मुस्कुराने लगे और कहने लगे लगता है तुम बहुत खुश हो और यह कहते हुए वह अपने ऑफिस चले गए, जब वह ऑफिस गए तो उन्होंने मुझे फोन किया और कहा कि अब तो तुम खुश हो, मैंने उन्हें कहा कि हां मैं आज बहुत खुश हूं और आप ने जिस प्रकार से मेरा सपोर्ट किया उसके लिए मैं आपको थैंक्यू कहना चाहती हूं। वह मुझे कहने लगे कि मुझे तुम्हारा थैंक्यू नहीं चाहिए मैं बस तुमसे यही चाहता हूं कि तुम हमेशा मेरे साथ अच्छे से रहो और मेरी भी भावनाओं की तुम कद्र करो। मेरे पति एक बहुत ही समझदार इंसान है, वह जब भी कहीं जाते हैं तो हर कोई उनकी तारीफ करता है और कहता है कि तुम्हारे पति का नेचर बहुत अच्छा है और जिस प्रकार से वह लोगों के साथ बात करते हैं वह बहुत ही अच्छा है। अब मेरे पति और मेरे सास ससुर ने भी इजाजत दे दी थी तो मैं मनोज जी के पास चली गई।

लौड़ा खड़ा कर देने वाली कहानी : मोटे लंड की ताकत कुंवारी चूत

मनोज जी मुझे कहने लगे आपने अपने घर में पूछ लिया, मैंने उन्हें कहा हां मैंने अपने घर में पूछ लिया है और उन्हें कोई आपत्ति नहीं है। वह कहने लगे ठीक है तो कल से आप आ जाइए और हम लोग कल से नया बैच शुरू कर देते हैं। उनके पास काफी बच्चे आते हैं और उन्होंने अपने घर के पास में ही एक दो कमरों का घर लिया हुआ है, वहीं पर वह बच्चों को पढ़ाते हैं और अब मैं भी उनके साथ काम करने लगी थी इसलिए उन्होंने और बच्चों को भी एडमिशन के लिए कह दिया था। उनके पास काफी बच्चे आते हैं क्योंकि वह बड़े ही अच्छे से पढ़ाते हैं और हमारी कॉलोनी में तो उन्हें सब जानते ही हैं और उन्हीं के पास अपने बच्चों को भेजते हैं इसीलिए अब मेरे पास भी काफी बच्चे आने लगे थे और मैं भी उन्हें पढ़ाने में व्यस्त रहने लगी, मैं बहुत बहुत खुश थी। एक दिन मेरी सास और मेरे पति मेरे साथ बैठे हुए थे, वह लोग मुझसे पूछने लगे तुम्हारे ट्यूशन कैसा चल रहा है, मैंने उन्हें कहा कि ट्यूशन तो बहुत अच्छा चल रहा है और अब बच्चे भी आने लगे हैं।    “Naye Land Ka Sukh”

वह कहने लगे चलो यह तो अच्छी बात है उस दिन जब मुझे पहले महीने की मेरी कमाई मिली तो मैंने वह अपनी सास को दे दी, वह भी बहुत खुश हो गई और वह मुझे कहने लगी लगता है तुम अब मेहनत करने लगी हो। उन्होंने वह पैसे नहीं पकड़े और मुझे ही वापस लौटा दिए, जब उन्होंने वह पैसे मुझे लौटाए तो मैंने उन्हें कहा कि आपने मुझे यह पैसे क्यों लौटाए तो वह कहने लगे मुझे पैसों का क्या करना है हमारे पास सब कुछ है। मैंने वह पैसे अपने पास रख लिए, मैंने सोचा मैं अब यह पैसे अपनी सेविंग में रखूंगी और हर महीने में जमा करती रहूंगी। उस रात में बहुत ज्यादा खुश थी इसलिए मैंने अपने पति को भी उस दिन कहा तुम मेरे साथ सेक्स कर सकते हो, उनसे उस दिन मैंने अपनी चूत जमकर मरवाई।       “Naye Land Ka Sukh”

अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरीज :  फेसबुक पर सेक्सी विडियो चैट

वह मुझसे खुश रहने लगे थे क्योंकि मैं उन्हें हर रोज सेक्स का सुख देती थी। एक दिन मनोज जी और मैं घूमने का प्लान बनाने लगे, हम दोनों उस दिन मूवी देखने चले गए जब हम दोनों मूवी देख रहे थे तो उन्होंने मेरे स्तनों पर हाथ रख दिया। पहले तो मुझे थोड़ा अजीब सा लगा लेकिन मेरे अंदर से भी एक आग निकलने लगी और मुझे लगा इनके लंड को मुझे आज अपनी चूत में लेना चाहिए मैंने वही हॉल के अंदर उनके लंड को चूसा उनका जूस मैने बाहर निकाल दिया, जब उनका वीर्य निकल गया तो वह उस दिन मुझे ट्यूशन सेंटर में ले गए। उन्होंने जब मुझे नंगा किया तो वह मुझे कहने लगे तुम्हारा बदन तो बड़ा ही अच्छा है, तुम्हारी चूत भी कम नही है।

उन्होंने मेरी गांड को इतना अच्छे से चाटा की मेरी गांड पूरी गीली हो गई थी, मेरी चूत ने ऐसा पानी छोड़ा कि जब उन्होंने अपने लंड को मेरी चूत के अंदर डाला तो उनका लंड चूत के अंदर जा चुका था। उन्होंने जिस प्रकार से मुझे चोदा, मैं बहुत ज्यादा खुश हो गई उन्होंने मेरी गांड को पकड़ा हुआ था और बड़ी तेजी से धक्के मार रहे थे। उन्होंने जिस प्रकार से मेरी गांड को अपने हाथ से पकड़ा था, मैं बहुत ज्यादा उत्तेजित हो गई। मैंने अपनी गांड को उनसे टकराना शुरू कर दिया जब मेरी गांड उनसे टकराती तो वह मुझे कहते अनीशा जी कसम से आपकी गांड तो बड़ी ही गजब की है और आपकी चूत मारने में तो मुझे ऐसा लग रहा है जैसे कि पता नहीं कितने सालों बाद किसी की चूत मैंने मारी हो।        “Naye Land Ka Sukh”

मस्तराम की गन्दी चुदाई की कहानी : पड़ोसन की दर्दनाक चुदाई कर बुर भोसड़ा बना दिया

जब उनका वीर्य पतन होने वाला था तो उन्होंने अपने लंड को मेरे मुंह में डाला, मैंने उसे 10 सेकंड तक अपने मुंह के अंदर लेकर चूसा जब मैं उनके लंड को चुसती तो उनका वीर्य इतनी तेजी से मेरा मुंह के अंदर गिरा कि वह मेरे गले के अंदर चला गया, मैंने उसे सब अपने अंदर निगल लिया। लेकिन उनकी इच्छा नही भरी थी और ना ही मेरी इच्छा भरी थी मैंने दोबारा से अपनी चूत को उनके सामने पेश किया और उन्होंने जब मेरी चूत के अंदर अपने कठोर लंड को डाला तो मैं चिल्ला उठी। उन्होंने मुझे बड़ी तेज गति से चोदना शुरू कर दिया वह मुझे जिस गति से चोद रहे थे मुझे ऐसा लग रहा था उनका लंड मेरे पेट के अंदर तक जाने लगा है। उन्होंने उस दिन मेरी पूरी तरह इच्छा पूरी कर दी, जिस प्रकार से उन्होंने मुझे चोदा मुझे तो बड़ा आनंद आ गया। जब उनका वीर्य मेरी कोमल योनि के अंदर गिरा तो मैंने उन्हें कहा आज आपने मेरी इच्छा पूरी कर दी, हालांकि मेरे पति भी मुझे रोज चोदते हैं लेकिन आज मुझे नया लंड लेकर बड़ा मजा आया। मुझे उम्मीद है कि आप को भी पूरा मजा आया होगा। वह मुझे कहने लगे आज के बाद तो मैं सिर्फ आपको ही अपनी चूत दूंगी आपके अलावा मैं किसी को भी नहीं चूत दूंगी।                          “Naye Land Ka Sukh”

ये कहानी Naye Land Ka Sukh Mila Meri Garam Chut Ko आपको कैसी लगी कमेंट करे………………….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *