Pati Ki Bewafai Ne Mujhe Randi Bana Diya – पति की बेवफाई

Pati Ki Bewafai Ne Mujhe Randi Bana Diya

मेरा नाम दीक्षा है मैं दिल्ली की रहने वाली हूं, मैं दिल्ली में ही पली बढ़ी हूं और मैं पहले से ही खुले विचारों की हूं लेकिन जब से मेरी शादी हुई है तब से मुझे मेरे पति के हिसाब से चलना पड़ता है। मेरे पति का नाम नकुल है। वह दिल्ली में कारोबार करते हैं और कभी कबार काम के सिलसिले में बाहर भी चले जाते हैं। हम दोनों की शादी को काफी वर्ष हो चुके हैं लेकिन अभी तक हम लोगों ने फैमिली प्लानिंग नहीं की है क्योंकि वह कहते हैं कि मुझे अभी थोड़ा समय और चाहिए। Pati Ki Bewafai Ne Mujhe Randi Bana Diya.

मैं घर में जब अकेले बोर हो जाती हूं तो मैं अपने पड़ोस में ही अपनी सहेली के पास चली जाती हूं, हम दोनों एक दूसरे को बहुत ही अच्छे से समझते है, मैं उसे अपनी हर बात शेयर करती हूं मेरी सहेली का नाम नीतू है। नीतू भी इंडिपेंडेंट विचारों की है लेकिन उसके पति उसे कुछ भी नहीं कहते, मैं उससे हमेशा ही इस बारे में कहती हूं कि मेरे पति नकुल तो मुझे किसी के साथ बात भी नहीं करने देते यदि वह मुझे किसी के साथ बात करते हुए देख लेते हैं तो मुझे वह घर में बहुत डांटते हैं।                “Pati Ki Bewafai”

चुदाई की गरम देसी कहानी : चूत गुलाब के फूल जैसी थी मालिक की बेटी की

नीतू मुझे कहने लगी कि तुम्हें इस बारे में तो नकुल से बात करनी चाहिए और तुम दोनों को आपस में ही अपना मैटर सुलझाना चाहिए क्योंकि यदि नकुल का नेचर इसी प्रकार से रहा तो तुम्हें आगे चलकर इन सब चीजों से बहुत ही तकलीफ होगी, मैं उसे कहने लगी मैंने तो नकुल से कई बार इस बारे में बात की थी लेकिन नकुल मुझे हमेशा ही हो यह कह कर टाल देते हैं कि क्या मैं तुम्हारे बारे में गलत सोच रहा हूं या तुम पर शक कर रहा हूं। एक दिन मैं सुबह सफाई का काम कर रही थी, उस दिन मैंने सोचा काफी समय हो चुका है मैंने घर में अच्छे से सफाई नहीं की है, क्यों ना आज सफाई कर ली जाए। मैंने उस दिन घर की अच्छे से सफाई की, सफाई करने के बाद मैं जब अपने सोफे पर बैठी हुई थी तो उस वक्त दोपहर के 1 बज रहे थे और मेरे फोन पर मेरे पुराने दोस्त अर्जुन का फोन आया। अर्जुन और मेरी बात काफी समय से नहीं हुई थी हम दोनों कॉलेज में साथ ही पढ़ते थे।

अर्जुन ने मुझे फोन किया तो मैंने उसे पूछा तुमने आज मुझे इतने सालों बाद कैसे याद कर लिया, वह कहने लगा मैं तो तुम्हें हमेशा ही याद करता हूं लेकिन तुम ही मुझे कभी याद नहीं करती। मैंने अर्जुन से कहा कि मैं अब घर की लाइफ में इतना ज्यादा बिजी हो चुकी हूं कि बिल्कुल भी वक्त नहीं मिल पाता। अर्जुन मुझसे पूछने लगा तुम्हारा शादीशुदा जीवन कैसा चल रहा है, मैंने उसे कहा कि मेरी शादी शुदा जिंदगी तो अच्छी चल रही है, पर तुम बताओ तुम आजकल कहां हो। वह मुझे कहने लगा मैं आजकल दिल्ली में हूं, मैंने उसे कहा तुम तो मुझे काफी सालों बाद फोन कर रहे हो, तुम आजकल क्या कर रहे हो, वह कहने लगा मैंने अपना ही बिजनेस खोल लिया है और मैं दिल्ली में ही काम करता हूं इसीलिए मैं दिल्ली बहुत ही कम रहता हूं। मैंने कहा चलो यह तो अच्छी बात है यदि तुमने अपना ही कारोबार शुरू कर लिया है।        “Pati Ki Bewafai”

कामुकता हिंदी सेक्स स्टोरी :  मम्मी की पिंक चूत चुदते देखी

हम दोनों की उस दिन काफी देर तक बात हुई, मुझे भी अर्जुन से बात कर के अच्छा लगा। अर्जुन मुझे कहने लगा किसी दिन तुम मुझे मिलो तो हम दोनों उस दिन बैठ कर बात करते हैं, मैंने उसे कहा तुम मेरे घर पर ही आ जाना, वैसे भी मैं घर पर अकेली बोर होती हूं, तुम्हें जब भी वक्त मिले तो तुम मुझे फोन कर लेना मैं तुम्हें अपने घर का एड्रेस भेज दूंगी। अर्जुन कहने लगा ठीक है तुम मुझे अपने घर का एड्रेस दे देना, अभी फिलहाल तो मेरे पास वक्त नहीं है लेकिन कुछ दिनों बाद ही मैं दिल्ली लौटूंगा, मैं अभी दिल्ली जा रहा हूं।  मैंने अर्जुन से कहा ठीक है तुम्हें जब भी वक्त मिले तो तुम मुझे फोन कर लेना। उसके बाद मैंने अर्जुन का फोन कट कर दिया और मैंने सोचा मैं नीतू के पास चलती हूं। मैं उस दिन नीतू के पास चली गई नीतू और मैं उस दिन काफी देर तक बैठे रहे, जब मैं घर गई तो उसके कुछ देर बाद नकुल भी आ गये। फिर मैं अपना खाना बनाने लगी, जब मैं खाना बना रही थी तो नकुल बेडरूम में ही बैठे हुए थे और उन्होंने मेरा फोन उस दिन देख लिया,  वह मुझे कहने लगे यह अर्जुन कौन है, मैंने उन्हें बताया कि वह मेरा पुराना दोस्त है और हम लोग कॉलेज में साथ ही थे, अब उसने अपना काम शुरू कर लिया है इसलिए उसने काफी समय बाद मुझे फोन किया।           “Pati Ki Bewafai”

जब मैंने यह बात नकुल को बताई तो नकुल का मुंह बिगड़ सा गया और वह चुपचाप अपने काम पर लग गए। मैं समझ चुकी थी कि वह मेरी इस बात से गुस्सा हो चुके हैं, मैंने उन्हें कहा कि हम दोनों खाना खा लेते हैं खाना बन चुका है। हम दोनों ने डिनर किया और उसके बाद हम लोग अपने बेडरूम में सो गए लेकिन मैं सोचने लगी कि नकुल और मेरी शादी कितने वर्ष हो चुके हैं लेकिन अब भी हम दोनों एक दूसरे को बिल्कुल भी नहीं समझ पाये। मुझे रात भर नींद नहीं आई और मैं यही सोचती रही। अगले दिन नकुल ने मुझसे कहा मैं काम के सिलसिले में कहीं बाहर जा रहा हूं और कुछ दिन बाद ही लौटूंगा, तुम अपना ध्यान रखना।  यह कहते हुए वह चले गए, मुझे बहुत ही बुरा सा फील हो रहा था। मुझे अपने आप को देख कर बहुत ही ज्यादा बुरा लग रहा था। उसके कुछ दिनों बाद ही मुझे अर्जुन का फोन आया वह मुझे कहने लगा तुम कहां हो। मैंने उसे कहा मैं तो घर पर ही हूं। वह कहने लगा क्या मैं तुम्हारे घर आ सकता हूं मैंने उसे कहा हां तुम मेरे घर आ जाओ। जब वह मेरे पास आया तो हम दोनों ही साथ में बैठे हुए थे और अर्जुन मुझसे पूछने लगा तुम्हारी लाइफ कैसी चल रही है।

अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरीज : भांजी की जवानी देख लंड टपकने

मैंने उसे अपनी सारी बात बताई  उसे यहां सब सुनकर अच्छा नहीं लगा वह कहने लगा तुम तो बिल्कुल ही इंडिपेंडेंट विचारों की थी लेकिन अब तुम्हें क्या हो चुका है। मैंने उसे कहा मेरे पति के साथ मै बिल्कुल भी खुश नहीं हू। उसने मुझे गले लगा लिया और कहने लगा तुम चिंता मत करो मैं तुम्हारे साथ हूं। जब उसने यह सब मुझे कहा तो मेरे अंदर से एक आग सी निकल गई, मैंने उसे कस कर पकड़ लिया मेरे स्तनों अर्जुन से टकरा रहे। अर्जुन ने भी मुझे सोफे पर लेटा दिया और सोफे पर लेटाते ही उसने मेरे नरम और मुलायम होठों का रसपान किया। काफी देर तक हम दोनों एक दूसरे के होठों को चूसते रहे उसने मेरे होठों से खून भी निकाल दिया। जब उसने मुझे नंगा किया तो वह प्यासी नजरों से मुझे बहुत देर तक  घूरता रहा। मैंने  अर्जुन से कहा अब तुम देर मत करो मैं काफी समय से सेक्स की भूखी बैठी हूं तुम मेरी इच्छा पूरी कर दो।                            “Pati Ki Bewafai”

अर्जुन ने भी अपना लंड बाहर निकाला और मैंने उसके कडक और मोटे लंड को बहुत देर तक सकिंग किया। वह पूरा मूड में था मैंने उसे कहा तुम मेरी योनि के अंदर अपने लंड को डाल दो। उसने जब मेरे दोनों पैर खोले तो कुछ देर तक तो उसने मेरी योनि को अच्छे से चाटा जिससे कि मेरी योनि से और भी ज्यादा पानी निकलने लगा। उसने मेरी योनि के अंदर जब अपनी उंगली को डाला तो मैं बहुत ज्यादा उत्तेजित हो गई। कुछ देर में ही उसने अपने मोटे लंड को जैसे ही मेरी योनि के अंदर प्रवेश करवा दिया तो मैं बहुत ज्यादा चिल्लाने लगी। वह कहने लगा तुम्हारी चूत तो बहुत ही टाइट है मुझे बहुत अच्छा लग रहा है जब मैं तुम्हें झटके दे रहा हूं। मैंने अर्जुन से कहा मुझे भी तुम्हारे साथ में सेक्स कर के बहुत मजा आ रहा है मैं इतने दिनों से भूखी बैठी थी मेरे पति तो मेरी तरफ देखते भी नहीं है और वह सिर्फ मुझ पर शक करते रहते हैं। अर्जुन कहने लगा तुमने भी आज मेरी इच्छा पूरी कर दी है। 15 मिनट बाद जब अर्जुन का वीर्य गिरा तो वह मुझे कहने लगा मुझे आज तुमने खुश कर दिया है। मैंने अपनी योनि से वीर्य को साफ किया और कुछ देर बाद उसके ऊपर बैठ गई। मैं अपनी चूतडो को बड़ी तेजी से हिला रही थी और वह भी मुझे बड़ी तेज गति से धक्के दे रहा था। जिस प्रकार से हम दोनों ने एक दूसरे के साथ संभोग किया हम दोनों ही बहुत खुश हो गए और जब दोबारा से अर्जुन का वीर्य मेरी योनि में गया तो उसने मेरी योनि से अपने लंड को निकाल लिया। मैंने अर्जुन को गले लगा लिया।               “Pati Ki Bewafai”

मस्तराम की गन्दी चुदाई की कहानी :  नई नवेली दुल्हन को सेक्स की प्यास

ये कहानी Pati Ki Bewafai Ne Mujhe Randi Bana Diya आपको कैसी लगी कमेंट करे………….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *