Train Mein Lesbian Sex Kiya Sexy Lady Ke Sath 2 – ट्रेन में लेस्बियन सेक्स

Train Mein Lesbian Sex Kiya Sexy Lady Ke Sath 2

Train Mein Lesbian Sexx Kiya Sexy Lady Ke Sath 1

हैलो दोस्तो मेरा नाम निषा है। आप लोगों ने मेरी कहानियों को काफी पढ़ा, सराहा और काफी कमेन्ट भी दिये ट्रेन में बनी दोस्त के साथ लेसवियन सेक्स किया किया। अब मैं कहानी पर आती हूँ मुझे तो आप जानते ही हैं मेरा नाम निषा है मैं 40 साल की हूँ मेरा फिगर 38 सी 36 40 है और मैं दिखने मे बहुत ही हॉट और सेक्सी हूँ मैं अनुप्रिया के घर पहुँच गई थी और वहाँ उसकी मम्मी, पापा और वो थी मेरे पति ने वोला कि कि मैं पोस्ट से वहीं आ जाऊँगा 01 दिन के लिये मैंने कहा ठीक है। Train Mein Lesbian Sex Kiya Sexy Lady Ke Sath 2.

लगभग 03 दिन बीत चुके थे और मेरे पति नहीं आये मुझे भी अनुप्रिया के साथ सेक्स भरपूर मिल ही रहा था इसलिये 03 दिन पता भी नही चले तीसरे दिन रात को 08.00 बजे के आस-पास मेंरे पति का फोन आया कि मैं अभी 03 दिन और नहीं आ सकता हूँ फिर तो और मौज हो गई अनुप्रिया तो बहुत ही ज्यादा खुश थी हम लोंगों ने बहुत तरीके से सेक्स पोजीशन में सेक्स किया मैं भी अनुप्रिया की मम्मी पापा को मम्मी पापा कहने लगी थी कि तभी हम दोनों को मस्ती सूजी कि आज मम्मी और पापा को सेक्स करते हुये देखेंगे फिर हम लोगों ने सुबह खिड़की के ऊपर का बन्टीलेटर खोल दिया जिससे कि रात को मम्मी पापा को हम सेक्स करते हुये देख सकें यह सब मम्मी ने देख लिया और बोली यह क्या कर रही हो अनुप्रिया हम दोनों डर गये कि अब क्या बतायें तभी मम्मी बोली कि तुम दोनों पूरे दिन अपने कमरे में रहती हो मुझे पता है क्या करती हो फिर हम दोनों और ज्यादा डर गये हम शर्म के मारे सर नीचे झुकाये थे कि तभी बोली कि अब मुझे सेक्स करते हुये देखना चाहती हो कि मैं कैसे सेक्स करती हूँ ठीक है आज देख लेना लेकिन ये बन्टीलेटर बन्द करदो और मैं तुम्हें अन्दर से सेक्स दिखाऊँगी और हम दोनों उनकी तरफ देखने लगे तब वो बोली हाँ मेरी तरफ क्या देख रही हो आज देख लेना ठीक है।

 

चुदाई की इंडियन सेक्स कहानी : भाभी की चुदासी बहन की बुर को जबरदस्त पेला

और तुम लोग जो करती हो क्या मैं नहीं देखती हूँ मैं भी देखती हूँ मैं भी करना चाहती हूँ यार तुम लोगों के साथ कि तभी मैंने कहा कि मम्मी कमरे में चलो वहीं बैठ के बातें करेंगें। और हम तीनों लोग कमरे में आ गये पापा घर पर थे नहीं फिर उस दिन तो हम लोगों ने कुछ नहीं किया रात को करीब 09.00 बजे मम्मी कमरे में आई और बोली कि मैंने दूसरे वाले बाथरूम का बाहर वाला गेट खोल दिया है तुम लोग उस गेट से बाथरूम में आ जाना और मैं कमरे की तरफ से उसका दरबाजा खोल दूँगी जिसमें पर्दा डाल दूँगी जिससे उन्हे शक न हो और वहाँ से अन्दर का ठीक से देख सकती हो मैनें कहा ठीक है तभी मम्मी बोली कि मैं तुम्हें मिसस काल कर दूँगी और चली गईं हम लोगों ने खाना खाया और अपने-अपने कमरे में चले गये और मैं अनुप्रिया के कमरे में उसके साथ ही सोती थी रात करीब 11.30 बजे फोन बजा और कअ गया अनुप्रिया बोली मम्मी का है और हम लोग पीछे वाले गेट से बाथरूम में घुस गये और फिर पर्दे को हटा कर देखा तो मम्मी उस पर्दे पर ही नजर रखे थी कि हम लोग आये कि नहीं और हमारी नजर आपस में टकराई और मॉम ने मुस्कुरा दिया.                     “Train Mein Lesbian Sex”

और सेक्स करने में जुट गईं पापा मम्मी को किश करने लगे और मम्मी पापा को काफी देर तक चुम्मा चाटी चलती रही मॉम की उम्र लगभग 45 से 48 के बीच होगी लेकिन मस्त मोटी और गोरे खूबसूरत हुस्न की मालिक थी उनका फिगर 42 डी 40 44 था बूब्बस और चूतड़ बहुत ही मोटे थे मॉम ने साड़ी पहनी हुई थी पापा साडी खोल दी और फिर ब्लाऊज खोल दिया अब मॉम सिर्फ ब्रा में थी क्योंकि जीचे उन्होनें पैन्टी नहीं पहनी हुई थी यह सब देखकर अनुप्रिया मदहोस हुई जा रही थी हम दोनों लोग रात को मैक्सी में ही रहते थे न ब्रा पहनते थे और न ही पैन्टी फिर पापा मॉम की जाँघों में आ गये और उनकी चूत को चाटने लगे मॉम मस्त होकर चूत को उठा उठाकर चटवा रहीं थी तभी अनुप्रिया ने मेरी मैक्सी उठा दी और मेरी चूत को चाटने लगी कमरे की लाईट आफ थी और पर्दा भी पूरा हटा दिया था जिससे हम दोनों को ठीक से चुदाई का मजा आ सके और फिर मैं भी वहीं बाथरूम में ही नीचे होकर दीवार से टिक गई जिससे कि अनुप्रिया को मेरी चूत तक अपनी जीभ पहुँचाने में आसानी होने लगी.                                “Train Mein Lesbian Sex”

 

मस्तराम की गन्दी चुदाई की कहानी :  गरम माँ की गरम चूत को पेला मैंने

उधर पापा भी मॉम की चूत को आईस क्रीम लगाकर चाटे जा रहे थे इधर अनुप्रिया मेरी चूत को खाये जा रही थी मॉम तो चिल्ला भी रही थी अआााााहहहहहहहहहहहहहहहहहहहहहह और तेज चाटो हहहहहहसससससससससहहहहहहहहहहहह और तेज और मैं तो चिल्ला भी नहीं पा रही थी फिर पापा 69 की पोजीशन मंे आ गये और मॉम की चूत चाटने लगे और मॉम पापा का लण्ड चूसने लगी कि तभी हम लोग भी 69 की पोजीशन में आ गये और एक-दूसरे की चूत चाटने लगे करीब 20 मिनट बाद मम्मी जोर से चिललाई आााहहहहहहहहहहहहहहह मेरा पानी निकलने वाला कि तभी पापा और जोर से चूत चाटने लगे मम्मी अपनी कमर उछाल रही थी कि जोर से फच्चचच से पापा के मुँह में झड़ गई और इधर अनुप्रिया ने मुझे इसारा किया कि मैं झडने वाली हूँ अनुप्रिया नीचे थी और मैं अनुप्रिया के ऊपर थी कि तभी जोर कमर उछालते हुये अनुप्रिया मेरे मुँह में फच्च्च्चचचचचचच से झड़ गई मैंने अनुप्रिया की चूत को ठीक से चाटा और साफ किया और उधर पापा मम्मी की चूत का सारा रस पी गये और अआाााहहहहह उउउहहहहहहहह करके शांत हो गई.             “Train Mein Lesbian Sex”

और फिर पापा उठे और मॉम की जाँघे फैलाकर अपना मुरझाया हुआ लण्ड चूत में पेलने लगे कि पापा का लण्ड मॉम की चूत में ठीक से घुस भी नहीं पा रहा था क्योंकि उनका लण्ड ठीक से खड़ा नहीं होता था इसीलिये वो मॉम को मॉम की चूत चाटकर उनकी चूत की प्यास को शांत करते थे फिर किसी तरह पूरा लण्ड मॉम की चूत में घुस गया और पापा मॉम की चूत में धक्के मारने लगे करीब 05 मिनट बाद पापा झड़ गये और उनके ऊपर गिर गये और लण्ड का पानी मॉम की चूत में छोड़ दिया और आीहहहह उउउउहहहह करके झड़ गये। फिर हम लोग उठे और अपने कमरे में आ गये और हम लोग अपने कमरे में नगंे होकर लेटे थे और सेक्स की ही बातें कर रहे थे कि मॉम बहुत गर्म हैं यार उनकी चूत शांत नही हो पा रही हैं और 30.00 मिनट बाद किसी ने गेट नॉक किया अनुप्रिया ने गेट खोला तो देखा कि मॉम है हम दोनों लोग नंगे थे ये देखकर उन्होनें अनुप्रिया के बूब्बस पकड़ लिये और चूसने लगी और बेड पर आकर गिर गये दोनों लोग मैं उठी और दरबाजे को बन्द किया.                                                 “Train Mein Lesbian Sex”

 

अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरीज : ट्यूशन वाली सेक्सी दीदी की तड़प मिटाई

मैं भी मॉम के पास आई और मॉम को किश करने लगी फिर मॉम की साड़ी खोल दी और पूरा नंगा कर दिया जिससे मॉम का मोटा जिस्म हम लोग ठीक से देख सकें और उनके मोटे-मोटे बूब्बस और चूतड़ पकड सकें फिर क्या था मॉम को बेड पर गिरा दिया और उनके बूब्बस चूसने लगे और अनुप्रिया मॉम की जाँघों को किश करने लगी और धीरे-धीरे उनकी चूत को चूसने लगी जिससे उनके मुँह से आहहह उउउउहहहहहहहहहह निकलने लगी और फिर मैंने भी उनके मुँह पर अपनी चूत रख दी और बो मेरी चूत को चाटने लगी फिर मॉम ने मुझे लिटा लिया और चूत चाटने लगी और अनुप्रिया मॉम की चूत चाट रही थी फिर करीब 30 मिनट बाद मैं जोर से चिल्लाई मॉम मैं झड़ने वाली हूँ और जोर से कमर उछाल-उछाल कर चटवाने लगी और फिर जोर से फच्च्च्च्च्च्च्चचचचचचचचचचच आहहहहहहहहहहहहहहहहह करके झड़ गई कि तभी मॉम भी जोर से चिल्ललाााइइइई अनुप्रिया आााहहहहहहहहहहहहहहहहह आाोेहहहहहहहहहहह मैं गई और मॉम भी झड़ गई और फिर हमारी दोनों की चूत अनुप्रिया ने चाटकर साफ की और उस रात मॉम 05 बार झड़ी, अनुप्रिया 04 बार और मैं भी 05 बार झड़ी बहुत मजा आया सेक्स करने में। आपको मेरी रियल सेक्स स्टोरी कैसी लगी जरूर बतायें। अब अगली स्टोरी में किसके साथ सेक्स किया बो लिखूँगी। धन्यवाद [email protected]                                          “Train Mein Lesbian Sex”

कामुकता हिंदी सेक्स स्टोरी : मैं लंड की प्यासी हूँ मुझे प्यार करो

 ये कहानी Train Mein Lesbian Sex Kiya Sexy Lady Ke Sath 2 आपको कैसी लगी कमेंट करे………………………..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *